हजारीबाग जेल में भूख हड़ताल पर बैठे राजनीतिक बंदी बीएन सिंह की बिगड़ी तबियत

Subscribe

NEWSWING

Hazaribagh, 13 December : जिला के जयप्रकाश नारायण केंद्रीय कारागार में पांच सूत्री मांगों को लेकर चार दिवसीय भूख हड़ताल पर बैठे कैदियों में राजनीतिक बंदी बीएन सिंह की दूसरे दिन तबियत खराब हो गयी. बीएन सिंह की जांच जेल के ही डॉक्टर ने की. डॉक्टर ने बताया कि बीएन सिंह का ब्लड प्रेशर बढ़ गया था. उन्हें बेचैनी होने लगी थी. जेल के बिरसा मंडप में बुधवार को बीएन सिंह के साथ लखेन्द्र ठाकुर, चैता दास, कौशल यादव, भगीरथ पंडित, अकरम, रफीक हुसैन आदि दर्जनों कैदी भूख हड़ताल पर बैठे.

इसे भी पढ़ें : सरकार रंगमंच बनाने में व्यस्त, सबसे ज्यादा खर्च कर रहा है पीआरडी विभाग, सरकार कर रही पैसों का बंदरबांट : हेमंत सोरेन

कैदियों ने की है पांच सूत्री मांग

इधर विधानसभा के शीत सत्र में राजधनवार विधायक ने हजारीबाग जेल में चल रहे अनशन और उनकी मांगों को लेकर शून्यकाल में सवाल उठाए. हजारीबाग जेल में पांच सूत्री मांग की गयी है. जिसमें सजा पुनरीक्षण परिषद की बैठक कर आजीवन सजा पूरी कर चुके कैदियों को रिहा करने, समाचार व मनोरंजन हेतु अन्य जेलों की तरह हजारीबाग जेल में भी डीटीएच की व्यवस्था, 10 साल से अधिक की सजा पार कर चुके कैदियों को ओपन जेल में रखने, दोनों पालियों में मुलाकाती की व्यवस्था हो तथा मुलाकाती कक्ष में इंटरकॉम की सुविधा बहाल करने, कैदियों की रिहाई जेल में व्यतीत किए जेल प्रशासन की अनुशंसा व आचरण की रिपोर्ट के आधार पर करने की मांग की है.

इसे भी पढ़ें : सरकार ने माना मोमेंटम झारखंड के बाद किया फर्जी कंपनी से 6400 करोड़ का करार, पूछे जाने पर विधायक को दी गलत जानकारी

कैदियों की मानी गयी एक मांग

अनशन के दूसरे दिन जेल प्रशासन ने कैदियों की एक मांग को मान लिया है. जेल प्रशासन बंदियों के मनोरंजन के लिए डीटीएच लगवाने की मांग को मान लिया है और जल्द ही विभागीय कार्रवाई पूरा कर जेल में डीटीएच सुविधा बहाल कर दी जाएगी. अनशन की देखरेख और व्यवस्था संभाल रहे कैदी नेता हन्नी मियां ने जिला प्रशासन से मांग किया है कि जिला प्रशासन सिर्फ जेल में फोन के लिए निरीक्षण करने के अलावे हम बंदियों की मुसीबत, परेशानी और समस्याओं का भी निरीक्षण करें ताकि बंदियों को परेशानी से कुछ राहत मिल सके.

इसे भी पढ़ें : बाराबंकी में जमीन पर कब्जा हटाने गईं आईएएस से भिड़ीं सांसद, कहा- जीना मुश्किल कर दूंगी

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.