Skip to content Skip to navigation

सरकारी राशि खर्च करने में पलामू जिला परिषद फेल, छह करोड़ खर्च करने के लिए सरकार के निर्देश का इंतजार

News Wing Palamu, 13 December: राज्य सरकार के आदेश की प्रत्याशा में पलामू जिला परिषद सामुदायिक विकास के छह करोड़ 29 लाख रूपए को खर्च नहीं कर पा रही है. इस राशि से स्ट्रीट लाईट, सामुदायिक शौचालय व पाईप से जलापूर्ति की योजनाओं का कार्यान्वयन किया जाना था. यह खुलासा बुधवार को स्थानीय डीआरडीए के सभागार में आयोजित जिला परिषद की बैठक में हुआ. बताया गया कि प्राप्त आवंटन से स्ट्रीट लाईट के लिए ज्रेडा से पत्राचार किया गया था, लेकिन ज्रेडा ने अगले छह माह तक काम शुरू करने में अपनी असमर्थता व्यक्त की थी. इसके बाद स्थानीय स्तर पर निविदा के माध्यम से स्ट्रीट लाईट लगाने के लिए राज्य सरकार से मार्गदर्शन मांगा गया था. इसी तरह सामुदायिक शौचालय के निर्माण में नियमों की जटिलता बाधक बन गई है.

दुकान आवंटन में पायी गयी गड़बड़ी

बैठक की अध्यक्षता जिप अध्यक्ष प्रभा देवी ने की व संचालन उपाध्यक्ष संजय कुमार सिंह ने किया. बताया गया कि परिषद को प्राप्त चार करोड़ के आवंटन से जिले के 13 जगहों पर बस पड़ाव व डाक बंगला का निर्माण कराया जाना है. इसके लिए निविदा प्रकाशित करने की सहमति प्रदान कर दी गई. दुकान आवंटन की समीक्षा के क्रम में बताया गया कि रोस्टर के अनुसार रेंडमाईजेशन साफ्टवेयर से दुकानों का आवंटन कर दिया गया है. इसमें पाया गया कि हुसैनाबाद में एक ही व्यक्ति को दो दुकानें आवंटित कर दी गई है. परिषद ने एक दुकान को रद्द कर किसी दूसरे को दुकान आवंटन करने का निर्णय लिया.

इसे भी पढ़ेंः सरकार ने माना मोमेंटम झारखंड के बाद किया फर्जी कंपनी से 6400 करोड़ का करार, पूछे जाने पर विधायक को दी गलत जानकारी

हरिहरगंज में बहुद्देशीय भवन के आवंटन को रद्द करने का फैसला

इसी तरह हरिहरगंज में बहुउदेश्यीय भवन के आवंटन को रद्द करने का निर्णय लिया. बताया गया अध्यक्ष, उपाध्यक्ष व कार्यपालक पदाधिकारी के जांच में उक्त भवन की स्थिति बहुत ही खराब पाई गई थी. इसे लेकर आवंटन आदेश को निरस्त कर दिया गया. बताया गया कि शहर के आबादगंज रोड में कई लोगों को आवासीय उद्देश्य से कमरा आवंटन किए गए थे, लेकिन इसका नियम के अनुकूल उपयोग नहीं किया जा रहा है. परिषद ने आदेश को रद्द करते हुए अपने कर्मियों को आवास आवंटित करने का निर्देश दिया. जिला अभियंता और नाजिर को हटाने का निर्णय

अभियंता और नाजिर को पद से हटाने का लिया गया फैसला

बैठक में जिला अभियंता विजय रस्तोगी को कार्य से हटाने का निर्णय लिया गया. बताया कि पूर्व के कई मामले में इनके खिलाफ कई तरह की अनियमियता का मामला उजागर हुआ है. वहीं, जिला परिषद के नाजिर अलंकार दुबे को उसके पद से हटाने का निर्णय लिया गया. बताया कि तत्कालीन सदर एसडीएम नैंसी सहाय के जांच रिर्पोट के आलोक में यह कार्रवाई की गई है. इसमें बगैर ग्रेजुएशन व लेखा परीक्षा उत्तीर्ण किए अलंकार को नाजिर जैसा महत्वपूर्ण पद सौंपने पर कड़ा एतराज जताया गया था. इस मामले में जांच के आदेश दिए गए कि किसी परिस्थिति में बगैर अहार्ता के इन्हें इतने महत्वपूर्ण पद की जिम्मेवारी क्यो दी गई थी.

इसे भी पढ़ेंः विधानसभा में नेता चुंबन, दारू बहस में है व्यस्त, राज्य की जनता गरीबी, भूख व बेकारी से पस्त

बैठक में ये थे मौजूद

मौके पर जिप सचिव सह डीडीसी सुशांत गौरव, विनोद सिंह, मुक्तेश्वर पांडेय, प्रमोद सिंह, लवली गुप्ता, स्मृति गुप्ता, अनुज राम, विकास चैरसिया, नन्द कुमार राम, सहित कई सदस्य व प्रमुख उपस्थित थे.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

Top Story
City List: 
Share

Add new comment

loading...